PENGUIN ALGORITHM क्या है ?

PENGUIN ALGORITHM क्या है और इस ALGORITHM से वेबसाइट या ब्लॉग कैसे प्रभावित हो सकते है ?

 

दोस्तों आप एक ब्लॉगर हो और आप अपने ब्लॉग का SEO (SEARCH ENGINE OPTIMIZATION ) करते हो या फिर आप किसी वेबसाइट का SEO (SEARCH ENGINE OPTIMIZATION ) करने के लिए SEO करते हो तो आपने कभी भी SEO (SEARCH ENGINE OPTIMIZATION ) के अंदर PENGUIN ALGORITHM का नाम तो सुना ही होगा तो आपने कभी भी SEO (SEARCH ENGINE OPTIMIZATION ) के ALGORITHM के अंतर्गत आने वाली PENGUIN ALGORITHM  के बारे में जानने की कोशिश की है कि PENGUIN ALGORITHM क्या है और इससे कैसे वेबसाइट या ब्लॉग प्रभावित हो सकता है।


नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताने जा रहे है कि, SEO (SEARCH ENGINE OPTIMIZATION ) अंतर्गत PENGUIN ALGORITHM क्या है ? है और इस ALGORITHM से वेबसाइट या ब्लॉग कैसे प्रभावित हो सकते है तो आज हम केवल SEO के PENGUIN ALGORITHM के बारे में बात करगें और इससे सम्बंधित बहुत इस बातें जानेगें-

Google algorithm की सम्पूर्ण जानकारी
Hummingbird ALGORITHM क्या है ?
Possum Algorithm क्या है ?
FRED ALGORITHM क्या है ?

 

PENGUIN ALGORITHM क्या है ?

Google ने penguin Algorithm का निर्माण अप्रैल 2012 किया गया था  Google Algorithm के अंतर्गत Penguin Algorithm के अनुसार आप कभी भी अपने ब्लॉग या वेबसाइट की ख़राब link building ना तैयार करे और साथ ही साथ आप कभी भी अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर Cloaking, Keyword Stuffing जैसे कार्य ना करें

यदि आप अपनी ब्लॉग या वेबसाइट में Spam link, cloaking, Keyword Stuffing,Hidden लिंक जैसे काम करते है तो आपके ब्लॉग या वेबसाइट में Penguin Algorithm के अनुसार पेनल्टी लग जायेगी और आपकी वेबसाइट या ब्लॉग Google  के माध्यम से ब्लैकलिस्ट में भी डल जायेगा 

          जिसके कारण आपकी वेबसाइट या ब्लॉग कभी भी गूगल में रैंक नहीं करेगा जो आपकी वेबसाइट या ब्लॉग के लिये बिल्कुल ठीक नहीं है और यह आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का SEO ( Search Engine Optimization ) प्रभावित होगा जिससे आपकी वेबसाइट या ब्लॉग की क्वालिटी गूगल की नजर में गिर जायेगी । 

         आप कभी भी अपनी वेबसाइट या ब्लॉग में कभी भी penguin Algorithm का उल्लघन ना करें यदि आप penguin Algorithm का उल्लघन करते है तो आपकी वेबसाइट या ब्लॉग की रैंकिंग परमानेंट गूगल पर गिर सकती है जिससे आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का कंटेंट भी ख़राब हो सकता है जो आपकी लिए ठीक नहीं है 

penguin Algorithm के अनुसार हमें अपनी वेबसाइट या ब्लॉग में किस तरह की कार्य नहीं करना चाहिए।

  • आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को गूगल पर जल्दी – से जल्दी रैंक कराने के लिए कभी-भी किसी अन्य वेबसाइट या ब्लॉग से किसी भी प्रकार की Link ना ख़रीदे।
  • आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग की backline या link bulding उन वेबसाइट पर ना बनाये जिसका पेज रैंक , डोमेन Authority , popularity आपकी वेबसाइट या ब्लॉग से कम हो।
  • आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के कंटेंट में  कभी भी हाईड लिंक ना बनाये
  • आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग में कभी भी लिंक स्पैम ना करें।
  • आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग में कभी भी keyword stuffing जैसे कार्य ना करे।

गूगल को penguin Algorithm बनाने की क्यों जरुरत पड़ गई थी ?

दोस्तों जब गूगल पर penguin Algorithm नहीं थी तब कोई SEO ( Search Engine Optimization ) यूजर अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को गूगल की पहले पेज पर लिंक स्पैमिंग करके रैंक करा देता था जिससे वो वेबसाइट या ब्लॉग का कंटेंट गूगल पर रैंक नहीं हो पाता था जो अपनी वेबसाइट या ब्लॉग का SEO ( Search Engine Optimization ) एक ईमानदारी से कर रहे है

         तो इसी बात को ध्यान में रखते हुये penguin Algorithm का निर्माण किया जिसके निर्माण होते ही गूगल के सर्च इंजन की रैंकिंग बहुत सी वेबसाइट या ब्लॉग काफी प्रभावित हुये और उन सभी वेबसाइट या ब्लॉग की रैंकिंग काफी गिर गई जो अपनी वेबसाइट या ब्लॉग में penguin Algorithm के अनुसार काम नहीं कर रहे थे। 

आशा करते है कि PENGUIN ALGORITHM क्या है और इस ALGORITHM से वेबसाइट या ब्लॉग कैसे प्रभावित हो सकते है और PENGUIN ALGORITHM से सम्बंधित जानकारी आपको अच्छे से समझ आ गया होगी और यह जानकारी आपके लिए काफी हेल्पफुल रही होगी आप इसी तरह की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग पर्व विजिट करते रहिये। 


Computer की संपूर्ण जानकारी संक्षेप में
BEST MOBILE TRACKER APP
www.bing.com
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*