Ms Excel क्या है

“Ms Excel क्या है”

क्या आपको पता है की Ms Excel क्या है और कंप्यूटर में इसका कार्य क्या है क्यों हम कंप्यूटर में Ms Excel का उपयोग करते है और Ms Excel की विशेषता कौनसी-कौनसी है तो आज हम केवल MS Office के अंतर्गत Ms Excel क्या और इससे सम्बंधित बहुत सी बातें जानेगें 


नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताने जा रहे है Ms Excel से संबंधित कुछ बातें की Ms Excel क्या है , Ms Excel का निर्माण किसने किया, Ms Excel की क्या-क्या विशेषता है, और Ms Excel का उपयोग कहाँ-कहाँ किया जाता है तो आज हम केवल Ms Excel से सम्बंधित बातों पर चर्चा करेगें –

Ms Excel क्या है ?

Ms Excel एक MS Office का एक भाग है Ms Excel का निर्माण Microsoft कंपनी ने किया है , Ms Excel का पहला संस्करण 1985 में Mac OS के लिये जारी किया गया था, Ms Excel का उपयोग Calculation के लिए किया जाता है, Ms Excel में By Defaults 3 Worksheet होती है जिन Sheet छोटे-छोटे डिब्बे होते है जिन्हें Cell कहते है. उन Cell के कुछ Address होते है जो आपको Cell पर क्लिक करते ही मिलते है, Cell की पहचान हमेशा Address बार से ही की जाती है Cell Address जैसे -A1, B1

यदि देखा जाये आज के समय में Ms Excel का उपयोग दुनियाँ के हर कंप्यूटर पर किया जा रहा है आज के समय दुनियाँ की प्रत्येक सरकार अपने कार्य विभाग से सम्बंधित कार्य Ms Excel के माध्यम से कर रही है आज के समय में हर कैलकुलेशन के क्षेत्र में Ms Excel का उपयोग भारी मात्रा में किया जा रहा है, क्योकि इसके माध्यम से बड़ी से बड़ी कैलकुलेशन आसानी से कुछ ही समय में पूर्ण हो जाती है कार्य करने में बिल्कुल भी समय नहीं लगता है।

Excel change case
Excel Most Important Formulas list
www.google.com

Ms Excel की विशेषता-

  • Ms Excel की एक सिंगल sheet में 256 Column होते है.
  • Ms Excel की एक सिंगल Sheet में 65536 Row होती है.
  • Ms Excel की एक Work sheet में 16777216 Cell होती है.
  • Ms Excel की एक Cell में 32767 Word लिख सकते है
  • Ms Excel के अंदर 1 जनवरी 1900 से लेकर 31 दिसम्बर 9999 तक की तारीखों का प्रयोग कर सकता है इस तरह यह 2958465 दिनों की Calculation कर सकता है.
  • Ms Excel बड़ी से बड़ी Calculation को कुछ सेकंड में कर देता है.
  • Ms Excel Calculation से संबंधित कभी भी गलत जानकारी नहीं देता है.

Ms Excel हमें  कैलकुलेशन करने के लिए कौनसे-कौनसे फंक्शन उपलब्ध करता है –

Ms Excel क्या है

Title bar – Ms Excel के टॉप को हम टाइटल बार कहते है टाइटल बार के अंदर दो नाम दिखाई देते है पहला फाइल नाम और दूसरा सॉफ्टवेयर नेम।

Menu Bar – इसके अंतर्गत Ms Excel के सभी मेनू बार के फंक्शन होते है जिन्हें हम अपने हिसाब से जरुरत पढ़ने पर उसका उपयोग कर सकते है , Ms Excel मेनूबार के अंतर्गत आने वाले फंक्शन निम्न प्रकार से है जैसे –

  • Home
  • Insert
  • Page layout
  • Formulas
  • Data
  • Review
  • View
  • Help

Cell Address– इसके अंतर्गत आप अपनी एक्सेल शीट के सेल का एड्रेस देख सकते है जैसे A 1 , B 1 और इसी के आधार पर इसकी पहचान कर सकते है।  Formula Bar – इसके अंतर्गत आप अपनी शीट में लगे फार्मूला को देख सकते है की किस सेल पर कौनसा फॉर्मूला लगा होगा है जैसे ही आप उस सेल पर कर्सर ले जाकर उसपर क्लिक करेगें तो आपको फार्मूला बार में फोर्मुला दिखने लगेगा।

Cell – Ms Excel की शीट में सभी जगे जो डिब्बे या खाने से बने होते है उसे सेल कहते है इन्हीं सेल में हम टाइप करके एक्सेल में कार्य करते है।

Sheet – इसके अंतर्गत हम यह जान सकते है की अभी हमारी Ms Excel शीट में कितनी शीट उपलब्ध है और इसकी के माध्यम से हम एक से दूसरी और दूसरी से तीसरी शीट पर जा सकते है।  

 

” Ms Excel के FORMULA “

AUTO SUM-

  • SUM
  • AVERAGE
  • COUNT
  • MAX
  • MIN

FINANCIAL

  • DB(COST, SALAVAGE, LIFE, PERIOD, MONTH)
  • DDB(COST, SALAVAGE, LIFE, PERIOD, FACTOR)
  • FV ( RATE, NPER, PMT, PV, TYPE)
  • IMPT (RATE, PER, NPER, PV, FV, TYPE)
  • IPMT ( RATE, PER, NPER, PV, FV, TYPE)
  • IRR (VALUES, GUESS)
  • ISPMT (RATE, PER, NPER, PV)
  • MIRR( VALUES, FINANCE,_RATE, REINVEST_RATE)
  • NPER(RATE, PMT, PV, FV, TYPE)
  • NPV ( RATE, VALUE1, VALUE2…)
  • PMT(RATE,NPER, PV, FV, TYPE)
  • PPMT( RATE, PER, NPER, PV, FV, TYPE)
  • PV (RATE, NPER, PMT, FV, TYPE)
  • RATE( NPER, PMT, PV, FV, TYPE, GUESS)
  • SLN (COST, SALVAGE, LIFE)
  • SYD( COST, SALVAGE, LIFE, PER)
  • VDB( COST,SALVAGE,LIFE,START_PERIOD,END_PERIOD,FACTOR,…..)

DATE AND TIME-

  • DATE(YEAR, MONTH,DAY)
  • NOW()
  • SECOND(SERIAL_NUMBER)
  • TIME(TIME_TEXT)
  • TIMEVALUE(TIME_TEXT)
  • TODAY()
  • WEEKDAY(SERIAL_NUMBER,RETURN_TYPE)
  • YEAR(SERIAL_NUMBER)
  • DATEVALUE(DATE_TEXT)
  • DAYS(SERIAL_NUMBER)
  • DAYS360 (START_DATE, END_DATE,METHOD)
  • HOUR(SERIAL_NUMBER)

MATH & TRIGONOMETRIC-

  • AB(NUMBER)
  • ACOS(NUMBER)
  • ACOSH(NUMBER)
  • ASIGN(NUMBER)
  • EXP(NUMBER)
  • FACT(NUMBER)
  • FLOOR(NUMBER, SIGNIFICANCE)
  • INT(NUMBER)
  • LAN(NUMBER)
  • LOG(NUMBER,BASE)
  • LOG10(NUMBER)
  • MDETERM(ARRYA)
  • MINVERSE(ARRAY)
  • MMULT(ARRYA1,ARRAY2)
  • MOD(NUMBER,DIVISOR)
  • ODD(NUMBER)
  • ASINGH(NUMBER)
  • ATAN(NUMBER)
  • ATAN(2X_NUM,Y_NUM)
  • ATANGH(NUMBER)
  • CELLING(NUMBER, SIGNIFICANCE)
  • COMBIN(NUMBER,NUMBER_CHOSEN)
  • COS(NUMBER)
  • DEGREES(ANGEL)
  • EVEN(NUMBER)
  • PT()
  • POWER(NUMBE1 VALU,POWER)
  • PRODUCT( NUMBER1, NUMBER2,…)
  • RADIANS(ANGLE)
  • RAND()
  • ROMAN( NUMBER,FORM)
  • ROUND( NUMBER, NUMBER,_DIGITS)
  • ROUNDDOWN(VALUE,VALUE,_DIGITS)
  • ROUNDDUP( NUMBER, NUMBER,_DIGITS)
  • SIGN( NUMBER)
  • SIN( NUMBER)
  • SINGH( NUMBER)
  • SQRT( NUMBER)
  • SUBTOTAL(FUNCTION_VALUE,REF1…)
  • SUMIF(RNGE, CRITERIA, SUM_RANGE)
  • SUMPRODUCT(ARRAY1, ARRYA2, ARRAY3,..)
  • SUMSQ(NUMBER1, NUMBER2,..)
  • SUMX2PY2(ARRAY_X,ARRAY_Y)
  • TAN(VALUE)
  • TANH(VALUE)
  • TRUNC( NUMBER, NUM_DIGITS)

STATISTICAL FUNCTION –

  • A VEDEV( NUMBER1, NUMBER2,…)
  • A VERAGE( NUMBER1, NUMBER2,..)
  • A VERRAGEA (VALUE1, VALUE2,..)
  • BETADIST(X,ALPHA,BETA,B)
  • BETAINV(PROBABILITY,ALPHA,BETA,A,B)
  • BINOMDIST(NUMBER_S,TRIALS,PROBABILITY_S,COMULATIVE)
  • CHIDIST(X,DEGRESS_FREEDOM)
  • CHITEST(ACTUAL_RANGE,EXPECTED_RANGE)
  • CONFIDENCE(ALPHA,STANDARD_DEV,SIZE)
  • CORREL(ARRAY1,ARRYA2)
  • COUNT(VALUE1,VALUE2,..)
  • COUNTA(VALUE2,VALUE2,…)
  • COUNTBLANK(RANGE)
  • COUNIF(RANGE,CRITERIA)
  • COVER(ARRAY1,ARRAY2)
  • CRITBINOM(TRIALS,PROBILITY_S,ALPHA)
  • DEVSQ(NUMEBR1,NUMBER,..)
  • EXPONDIST(X,LAMBDA,CUMULATIVE)
  • FDIST(X,DEGREES_FREEDOM1,DEGREES_FREEDOM2)
  • FINV(PROBILITY,DEGRESS_FREEDOM1DEGREES_FREEDOM2)
  • FISHER(X)
  • FISHERINV(Y)
  • FORECAST(X,KNOW_YS,KNOWN_X’S)
  • FREQUENCY(DATA_ARRAYBINS_ARRAY)
  • FTEST(ARRAY1,ARRAY2)
  • GAMMADIST(X,ALPHA,BETA,COMULATIVE)
  • GAMMAINV(PROBALITY,ALPHA,BETA)
  • GAMMALN(X)
  • GEOMEAN(NUMBER1,NUMBER,..)
  • GROWTH(KNOWY_Y’S,KNOWN_X’S,NEW_X’S,CONST)
  • HARMEAN(NUMBER1,NUMBER2)
  • HYPGEOMDIST (SAMPLE_S,NUMBER_SAMPLE,POPULATION_S,…)
  • INTERCEPT(KNOWN_Y’S,KNOWN_X’S)
  • KURT(NUMBER1,NUMBER,..)
  • LARGE(ARRAY,K)
  • LINEST(KNOWN_’S,KNOWN)X’S,CONST,STATS)
  • LOGEST(KNOWN_Y’S,KNOWN_X’S,CONST,STATS)
  • LOGINV(PROBABILITY,MEAN,STANDARD_DEV)
  • LOGNORMDIST(X,MEAN,STANDARD_DEV)
  • MEXA(VALUE1,VALUE2,)
  • MEDIAN(NUMBER,NUMBER,..)
  • MINA(VALUE1,VALUE2,.)
  • MODE(NUMBER1,NUMBER2,.)
  • NEGBINOMDIST(NUMBER_F,NUMBER_S,PROBABILITY_S)
  • NORMDIST(X,MEAN,STANDARD_DEV,CUMULATIVE)
  • NORMINV(PROBABILITY,MEAN,STANDARD_DEV)
  • NORMSDIST(Z)
  • NORMSINV(PROBABILITY)
  • PEARSON(ARRAY1,ARRAY2)
  • PERCENTILE(ARRAY,K)
  • PERCENTRANK(ARRAY,X,SIGNIFICANCE)
  • PERMUT(NUMBER,NUMBER_CHOSEN)
  • POISSON(X,MEAN,CUMULATIVE)
  • QUARTILE(ARRAY,QUART)
  • RANK(NUMBER,REF,ORDER)
  • RSQ(KNOWN_Y’S,KNOWN_X’S)
  • SKEW(NUMBER1,NUMBER2,..)
  • SLOPE(KNOWN_Y,S,KNOWN_X’S)
  • SMALL(ARRY,K)
  • STANDARDIZE (X,MEAN,STANDARD_DEV)
  • SDEV(NUMBER1,NUMBER2,..)
  • STDEVA(VALUE1,VALUE2,..)
  • STDEVPA(VALUE1,VALUE2,..)
  • STEYX(KNOW_Y’S,KNOWN_X’S)
  • TDIST(X,DEGREES_FREEDOM,TAILS)
  • TINV(PROBABILITY,DEGREES_FREEDOM)
  • TREND(KNOWN_Y’S,KNOWN_X’S,NEW_X’S,CONST)
  • TRIMMEAN(ARRAY,PERCENT)
  • TTEST(ARRAY1,ARRAY2,TAILS,TYPE)
  • VAR(NUMBER1,NUMBER,..)
  • VARA(VALUE1,VALUE2)
  • VARP(NUMBER(1,NUMBER,..)
  • VARPA(VALUE1,VALUE2,..)
  • WEIBULL(XALPHA,BETA,CUMULATIVE)
  • ZTEST(ARRAY,X,SIGMA)

 

LOOKUP & REFERENCE FUNCTION –

  • ADDRESS (ROW_NUM,COLUMN_NUM,ABS_NUM,A1,SHEET_TEXT)
  • AREAS(REFERENCE)
  • CHOOSE(INDEX_NUM,VALUE1VALUE2,..)
  • COLUMN(REFERENCE)
  • COLUMNS(ARRAY)
  • GETPIVOTDATA(DATA_FIELD,PIVOT_TABLE,FIELD1,ITEM1FIELD2,..)
  • HLOOKUP(LOOKUP_VALUE,TABLE_ARRAY,ROW_INDEX_NUM,..)
  • HYPERLINK(LINK_LOCATION,FRIENDLY_NAME)
  • INDEX(…)
  • INDIRECT(REF_TEXT, A1)
  • LOOKUP(…)
  • ROW (REFERENCE)
  • OFFSET(REFERENCE,ROWS,COLS,HEIGHT,WIDTH)
  • MATCH(LOOKUP_VALUE,LOOKUP_ARRAY,MATCH_TYPE)
  • ROWS(ARRAY)
  • RTD(PROGID,SERVER,TOPIC1, TOPIC2,…)
  • TRANSPOSE(ARRAY)
  • VLOOKUP(LOOKUP_VALUE,TABLE_ARRAY,CO1_INDEX_NUM,..)

DATABASE FUNCTION –

  • DMAX(DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DGET(DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • PRODUCT (DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DVARP (DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DVAR (DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DSUM (DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DSTDEVP (DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DSTDEV (DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • AVERAGE(DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DCOUNT(DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DCOUNTA(DATABASE,FIELD,CRITERIA)
  • DMIN(DATABASE,FIELD,CRITERIA)

TEXT FUNCTION –

  • CLEAN(TEXT)
  • CHAR(NUMBER)
  • BAHTTEXT(NUMBER)
  • CODE(TEXT)
  • RIGHT(TEXT,NUM_CHARS)
  • SEARCH(FIND_TEXT,WITHIN_TEXT,START_NUM)
  • SUBSTITUTE(TEXT, OLD_TEXT,NEW_TEXT,INSTANCE_NUM)
  • T(VALUE)
  • TEXT(VALUE,FORMAT_TEXT)
  • TRIM(TEXT)
  • UPPER(TEXT)
  • VALUE(TEXT)
  • CAONCATENATE(TEXT1, TEXT2,..)
  • CONCATENATE(TEXT1, TEXT2,..)
  • DOLLAR(NUMBER,DECIMALS)
  • EXACT(TEXT1,TEXT2)
  • FIND(FIND_TEXT,WITHIN_TEXT,START_NUM)
  • FIXED(NUMBER,DECIMALS,NO_COMMAS)
  • LEFT(TEXT,NUM_CHARS)
  • LEN(TEXT)
  • LOWER(TEXT)
  • MID(TEXT,START_NUM,NUM_CHARS)
  • PROPER(TEXT)
  • PROPER(TEXT)
  • REPLACE(OLD_TEXT,START_NUM,NUM_CHARS,NEW_TEXT)
  • REPT(TEXT,NUMBER_TIMES)

LOGIC FUNCTION –

  • AND(LOGICALL,LOGICAL2,..)
  • FALSE()
  • IF(LOGICAL_TEST,VALUE_IF_TRUE,VALUE_IFFALSE)
  • NOT(LOGICAL)
  • OR(LOGICALL,LOGICAL2,..)
  • TRUE()

INFORMATION FUNCTION –

  • CELL (INFO_TYPE,REFERENCE)
  • ERROR.TYPE(ERROR_VA1)
  • INFO(TYPE_TEXT)
  • ISBLANK(VALUE)
  • ISERR(VALUE)
  • ISERROR(VALUE)
  • ISLOGICAL(VALUE)
  • ISNA(VALUE)
  • ISNONTEXT(VALUE)
  • ISNUMBER(VALUE)
  • ISREF(VALUE)
  • ISTECT(VALUE)
  • N(VALUE)
  • NA()
  • TYPE(VALUE)

# ध्यान दें – इन सभी फार्मूला का उपयोग करने से पहले = का चिन्ह लगाना अनिवार्य है #

Ms Excel का उपयोग किस-किस काम में किया जाता है –

Ms Excel का उपयोग ज्यादातर कैलकुलेशन एरिया के काम में किया जाता है क्योकि Ms Excel का निर्माण डॉक्यूमेंट पेज में कैलकुलेशन करने के लिए किया गया है जैसे की हमको एकाउंटिंग का काम करना है , कैलकुलेशन का काम करना है , डाटा एंट्री का काम करना है

आशा करते है आपने यह जान लिया होगा की “Ms Excel क्या है” इसका निर्माण किसने किया और इसकी विशेषता क्या- क्या है इसका उपयोग कहाँ-कहाँ किया जाता जाता है इसी तरह की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग ब्लॉग पर विजिट करते रहिये


 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*